होमपर्सनल फाइनेंस

CNBC Exclusive: अब दूर होगी खुले रुपयों की टेंशन, रिजर्व बैंक प्लान कर रहा स्पेशल ATM लगाने की प्लानिंग

CNBC Exclusive: अब दूर होगी खुले रुपयों की टेंशन, रिजर्व बैंक प्लान कर रहा स्पेशल ATM लगाने की प्लानिंग

CNBC Exclusive: अब दूर होगी खुले रुपयों की टेंशन, रिजर्व बैंक प्लान कर रहा स्पेशल ATM लगाने की प्लानिंग
Profile image

By Lakshman Roy  Jan 24, 2023 4:26:29 PM IST (Updated)

सूत्रों के मुताबिक रिजर्व बैंक सिर्फ एटीएम में छोटे नोट की संख्या ही बढ़ाने पर विचार नहीं कर रहा है बल्कि इसके अलावा भी अलग अलग विकल्पों पर विचार किया जाएगा. एटीएम में छोटे नोट की संख्या बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा गाइडलाइंस भी जारी कर सकती है.

बाजार में अक्सर आपको खुले रुपयों की कमी को लेकर दिक्कत का सामना करना पड़ता होगा. अब इस समस्या को दूर करने के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया जल्द कदम उठाने जा रही है. रिजर्व बैंक के इस खास इंतजाम के बाद बाजार में खुले की समस्या दूर होगी. सीएनबीसी को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एटीएम में छोटे नोट की संख्या बढ़ाने पर विचार कर रहा है. छोटे नोट नहीं मिलने की कई शिकायतें रिजर्व बैंक तक पहुंची थीं, इसके बाद सरकार अब कदम उठाने के लिए तैयार हुई है.
सूत्रों के मुताबिक रिजर्व बैंक सिर्फ एटीएम में छोटे नोट की संख्या ही बढ़ाने पर विचार नहीं कर रहा है बल्कि इसके अलावा भी अलग अलग विकल्पों पर विचार किया जाएगा. एटीएम में छोटे नोट की संख्या बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा गाइडलाइंस भी जारी कर सकती है.
नए ATM लगाने पर विचार
सूत्रों द्वारा जानकारी के मुताबिक सरकार यूपीआई पर आधारित एटीएम लगाने पर भी विचार कर सकती है. इस यूपीआई आधारित एटीएम से आम लोग छोटे नोट निकाल सकेंगे. इन शिकायतों के बाद रिजर्व बैंक के अधिकारियों ने इस बात का संज्ञान लिया.
इस महीने हुई बैठक
खुले को लेकर आ रही समस्या पर इस महीने रिजर्व बैंक के अधिकारियों की अहम बैठक हुई. इस बैठक में कई सुझाव दिए गए. इनमें यूपीआई एटीएम से लेकर अधिक छोटे नोटों को बाजार में उतारने जैसे कदमों पर बात हुई. अब देखते हैं कि आने वाले दिनों में क्या क्या नए कदम उठाए जाएंगे.

Previous Article

Sukanya Samriddhi Yojana: बेटी के बेहतर भविष्य के लिए शानदार निवेश योजना, जानिए योजना की पूरी डिटेल

Next Article

Fact Check : आपके पास आधार कार्ड है तो सरकार देगी 4.78 लाख रुपये? PIB ने दी पूरी जानकरी

arrow down

Market Movers

Top GainersTop Losers
CurrencyCommodities
CompanyPriceChng%Chng