होमपर्सनल फाइनेंसमौजूदा माहौल में निवेशकों के लिए टारगेट मैच्योरिटी फंड क्यों है अच्छा ऑप्शन
personal finance | IST

मौजूदा माहौल में निवेशकों के लिए टारगेट मैच्योरिटी फंड क्यों है अच्छा ऑप्शन

Mini

What is target mutual funds : बॉन्ड यील्ड अभी स्थिर हो गई है. घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रेट हाइक साइकिल के अंत की उम्मीदों को देखते हुए, फिक्‍स्‍ड इनकम निवेश विकल्पों से रिटर्न भी स्थिर हो सकता है. भारत में यील्ड कर्व सपाट है और अमेरिका में यह इससे काफी उलट है.

पुनीत पाल, हेड- फिक्‍स्‍ड इनकम, PGIM इंडिया म्‍यूचुअल फंड

कोविड महामारी के चलते दुनियाभर के लिए महंगाई एक अहम समस्या बन गई हैं. कई बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देशों में महंगाई अपने कई साल के उच्‍च स्‍तरों पर पहुंच गई. जिसके चलते दुनिया भर के केंद्रीय बैंकों ने लगातार ब्याज दरों में बढ़ोतरी की है, ताकि महंगाई को रोका जा सके. पिछले साल से इस प्रोत्साहन और विशेष रूप से मौद्रिक सख्ती का असर महंगाई पर दिखने लगा है.
1 से 30 साल तक की मैच्योरिटी होती है. होल्डिंग पीरियड के दौरान मिला ब्याज,फिर निवेश होता है. मैच्योरिटी तक बने रहने में ज्यादा फायदा होता है. ऊंची ब्याज दर पर निवेश लॉक-इन करने का मौका मिलता है. ब्याज दरों के बदलाव में जोखिम कम करने में कारगर होते है. टार्गेट मैच्योरिटी फंड में कभी भी एंट्री और एग्जिट कर सकते है.
मई 2022 से अब तक 6 बार बढ़ा रेपो रेट-भारत में भी महंगाई दुनिया के बाकी हिस्सों के साथ बढ़ी है और इसे कम करने के लिए, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने मई 2022 से अब तक 6 बार में ब्याज दरों में 225 अंकों की बढ़ोतरी की है, जिसके बाद नीतिगत रेपो रेट 4 फीसदी से अधिक बढ़कर 6.50 फीसदी हो गया है. इसके विपरीत, पिछले एक साल में 1 साल के टी-बिल यील्ड में 250 अंकों की बढ़ोतरी के साथ बॉन्ड यील्ड भी 4.40 फीसदी से बढ़कर 6.90 फीसदी हो गई है.
फिलहाल महंगाई अपने चरम पर पहुंचने के बाद अब धीरे धीरे नरम पड़ने लगी है. महंगाई दरों में कमी देखने को मिल रही है. यह फिक्‍स्‍ड इनकम वाले निवेशकों के लिए आगे चलकर अच्छा संकेत हो सकता है, क्योंकि आरबीआई द्वारा रेट हाइक साइकिल को रोके जाने की उम्मीद है.
फिक्‍स्‍ड इनकम निवेश में स्थिर होगा रिटर्न-बॉन्ड यील्ड अभी स्थिर हो गई है. घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रेट हाइक साइकिल के अंत की उम्मीदों को देखते हुए, फिक्‍स्‍ड इनकम निवेश विकल्पों से रिटर्न भी स्थिर हो सकता है. भारत में यील्ड कर्व सपाट है और अमेरिका में यह इससे काफी उलट है. इसका मतलब यह है कि बाजार महंगाई में और गिरावट की उम्मीद कर रहा है और आगे चलकर केंद्रीय बैंकों द्वारा दरों में कटौती की जा सकती है. ऐसा होता है तो कम होते ब्याज दरों के दौर फिक्‍स्‍ड इनकम वाले निवेशकों को उपार्जित आय के अलावा कैपिटल गेंस यानी पूंजीगत लाभ के रूप में दोहरा फायदा मिल सकता है.
अभी निवेश का सही है समय-पिछले 2 साल में डेट फंड निवेशकों का सफर आसान नहीं रहा है, क्योंकि बढ़ती यील्ड ने बॉन्ड फंड्स के रिटर्न को प्रभावित किया है. जैसे जैसे हम ब्याज दरों में बढ़ोतरी में ठहराव और इससे आगे ब्याज दरों में कटौती की ओर बढ़ रहे हैं, डेट फंड निवेशकों को बेहतर अनुभव की उम्मीद हो सकती है. बॉन्ड यील्ड का मौजूदा स्तर फिक्स्ड इनकम फंड्स में निवेश का अच्छा मौका दे सकता है.
साथ 3-5 साल की अवधि वाले फंड अभी बेहतर-चूंकि सरकारी प्रतिभूतियों पर AAA कॉरपोरेट बॉन्ड और SDL का प्रसार वर्तमान में टाइट हालत में है. इसलिए हम निवेशकों को सलाह देंगे कि वे प्रमुख सॉवरेन होल्डिंग्स के साथ 3-5 साल की अवधि वाले फंडों पर विचार करें। क्योंकि वे वर्तमान में बेहतर रिस्क-रिवार्ड की पेशकश कर सकते हैं. जी-सेक के लिए प्रमुख आवंटन के साथ टारगेट मैच्योरिटी फंड उन निवेशकों के लिए बेहतर विकल्प हैं जो वर्तमान में बढ़ी हुई यील्ड का लाभ उठाने के लिए अपेक्षाकृत सुरक्षित और लिक्विड यानी तरल मार्ग की तलाश कर रहे हैं.
क्यों करना चाहिए निवेश-सवाल उठता है कि वर्तमान में टारगेट मैच्योरिटी फंड पर विचार क्यों करें? इन फंडों की एक परिभाषित मैच्‍योरिटी यानी परिपक्वता की तिथि होती है. एसेट एलोकेशन पूर्व-निर्धारित है और वे जी-सेक, पीएसयू बॉन्ड, कॉरपोरेट बॉन्ड और स्टेट डेवलपमेंट लोन्स में निवेश कर सकते हैं.
इस श्रेणी में अस्थिरता कम-इन फंडों को या तो एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स या इंडेक्स फंड्स के रूप में डिजाइन किया गया है। उन्हें रोल डाउन रणनीति के साथ निष्क्रिय रूप से प्रबंधित किया जाता है, जिसमें बॉन्‍ड मैच्‍योरिटी तक रखे जाते हैं. नतीजतन, हर गुजरते साल के साथ अवधि कम हो जाती है, कुछ हद तक ब्याज दर जोखिम कम हो जाता है, लेकिन पूरी तरह से नहीं. इसलिए इस श्रेणी में अस्थिरता कम होती है. कूपन को मौजूदा अंतर्निहित बॉन्ड या समान मैच्‍योरिटी और क्रेडिट रेटिंग के बॉन्ड में फिर से निवेश किया जाता है. उदाहरण के लिए, अगर फंड की मैच्योरिटी अवधि 2028 है, तो यह उन बॉन्ड में निवेश करेगा जो योजना की मैच्योरिटी तिथि के अनुसार मैच्‍योर होंगे.
इमरजेंसी में आता है काम-अगर निवेश को 3 साल से अधिक समय तक रखा जाता है, तो निवेशकों को लंबी अवधि के कैपिटल गेंस पर इंडेक्सेशन का लाभ मिलता है. चूंकि ये ओपन-एंडेड फंड हैं, इसलिए किसी भी इमरजेंसी की स्थिति में निवेशक इन्हें मैच्योरिटी से पहले रिडीम कर सकते हैं. इस तरह, टारगेटेड मैच्योरिटी फंड में वे सभी विशेषताएं हैं जो उन्हें इस मोड़ पर एक आदर्श निवेश अवसर बना सकती हैं. निवेशकों को एक टारगेटेड मैच्योरिटी फंड चुनने की सलाह है जो उनकी जोखिम लेने की क्षमता और निवेश की अवधि से मेल खाता हो.
next story
CurrencyCommodities
CompanyPriceChng%Chng