होमफोटोएग्रीकल्चरअल्फांसो की बाजार में हुई एंट्री लेकिन इस बार जेब करनी पड़ेगी ढीली

अल्फांसो की बाजार में हुई एंट्री लेकिन इस बार जेब करनी पड़ेगी ढीली

अल्फांसो की बाजार में हुई एंट्री लेकिन इस बार जेब करनी पड़ेगी ढीली
Profile image

By Local 18  Feb 3, 2023 11:48:59 AM IST (Updated)

Switch to Slide Show
Switch-Slider-Image

SUMMARY

आम को खाने के लिए मई के महीने तक का इंतजार करना पड़ता है. लेकिन अब वह इंतजार खत्म हो गया है. क्योंकि नवी मुंबई के एपीएमसी मार्केट में आम का पहला बॉक्स आ गया है.

एग्रीकल्चर
Image-count-SVG1 / 6
(Image: )

आम खाना किसको पसंद नही होता है. आम का नाम सुनते ही बच्चों से लेकर बूढ़ों तक के मुंह में पानी आ जाता है. इस आम को खाने के लिए मई के महीने तक का इंतजार करना पड़ता है. लेकिन अब वह इंतजार खत्म हो गया है. क्योंकि नवी मुंबई के एपीएमसी मार्केट में आम का पहला बॉक्स आ गया है.

एग्रीकल्चर
Image-count-SVG2 / 6
(Image: )

गुरुवार को वाशी के एपीएमसी बाजार में रत्नागिरी हापुस आम यानी अल्फांसो के 38 बक्से बिक्री के लिए आए हैं. पिछले कुछ दिनों से छिटपुट डिब्बे बाजार में आ रहे थे. इस साल आम खाने के लिए आपकी जेब ज्यादा खाली हो सकती है. बढती महंगाई के साथ-साथ इस बार आम की कीमतें भी बढ चुकी है.

एग्रीकल्चर
Image-count-SVG3 / 6
(Image: )

इस सीजन में हापुस का ज्यादा आगमन हुआ है. बाजार में आम की यह अब तक की सबसे अच्छी आवक है. पिछले साल नवंबर में दो दर्जन हापुस बक्से बाजार में आए थे. उस समय दो दर्जन की कीमत 9,000 रुपये थी. गुरुवार को पहुंचे चार से आठ दर्जन हापुस बक्से का बाजार मूल्य 5,000 से 10,000 रुपये मिला है, जबकि पके हापुस बक्से को 12,000 से 15,000 रुपये की कीमत पर बेचा जा रहा है.

एग्रीकल्चर
Image-count-SVG4 / 6
(Image: )

हापुस बाकी आमों से अलग है क्योंकि हापुस आम आप इसकी सुगंध से पहचान सकते है. उसका रंग और स्वाद सबसे अलग होता है. कई लोग तो उसके एक नजर में पहचान लेते है कि ये हापुस है या नहीं. अल्फांसो आम का रस अधिक स्वादिष्ट होता है और इसकी त्वचा पतली लेकिन दृढ़ होती है. इसका रंग संतरी पीला रंग का होता है.

एग्रीकल्चर
Image-count-SVG5 / 6
(Image: )

कोंकण हापुस मैंगो ग्रोअर्स एंड ग्रोअर्स को-ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड रत्नागिरी द्वारा उपलब्ध कराई गई जानकारी के अनुसार कोंकण डिवीजन के पांच जिलों में हापुस के नाम पर भौगोलिक संकेत (GI) प्राप्त हुआ है. इन पांच जिलों में पैदा होने वाले आमों के अलावा अन्य स्थानों के आमों और आम से बने उत्पादों का उल्लेख हापुस के नाम से नहीं किया जा सकता है.

एग्रीकल्चर
Image-count-SVG6 / 6
(Image: )

कोंकण क्षेत्र में हापुस का स्वाद, रंग, पोषण आदि इस भूगोल के कारण अलग-अलग हैं. हापुस आम का उत्पादन केवल कोंकण में किया जाता है इसलिए इसकी कोई अन्य प्रति नहीं हो सकती है और इसका मुकाबला किसी से नहीं किया जा सकता है ऐसा कहना है.

बिजनेस की लेटेस्ट खबर, पर्सनल फाइनेंस, शेयर बाजार (स्टॉक मार्केट) की ब्रेकिंग न्यूज और स्टॉक टिप्स, इन्वेस्टमेंट स्कीम और आपके फायदे की खबर सिर्फ CNBCTV18 हिंदी पर मिलेगी. साथ ही अपने फेवरेट चैनल सीएनबीसी आवाज़ को यहां फोलो करें और लाइक करें हमें फेसबुक और ट्विटर पर.
arrow down
CurrencyCommodities
CompanyPriceChng%Chng