होमफोटोएग्रीकल्चरBusiness Idea: पपीते की खेती से हर महीने 50 हजार रुपये कमाने वाला किसान, जानिए ऐसा करता है

Business Idea: पपीते की खेती से हर महीने 50 हजार रुपये कमाने वाला किसान, जानिए ऐसा करता है

Business Idea: पपीते की खेती से हर महीने 50 हजार रुपये कमाने वाला किसान, जानिए ऐसा करता है
Profile image

By Local 18  Mar 18, 2023 2:33:46 PM IST (Updated)

Switch to Slide Show
Switch-Slider-Image

SUMMARY

Papaya farming latest news in Hindi -पपीते की खेती साल भर की जा सकती है. लेकिन पपीते की पौध लगाने के लिए मार्च सबसे अच्छा समय है.

एग्रीकल्चर
Image-count-SVG1 / 6
(Image: )

पपीते के बाग में व्यापारी आते हैं और पपीता खरीदते हैं. पिछले कुछ वर्षों से, शिशु ओड ने आम के बागों में वैकल्पिक फसल के रूप में पपीते के पेड़ लगाए. अब वह उस बगीचे से सालाना दो से ढाई लाख रुपए कमा रहे हैं.

एग्रीकल्चर
Image-count-SVG2 / 6
(Image: )

मालदा के रतुआ थाना क्षेत्र के बहिरकाप गांव निवासी शिशु ओडे यह राह दिखा रहे हैं कि आम के बागों में भी कोई दूसरी लाभदायक फसल उगाई जा सकती है. वह हाई स्कूल के बाद बाहर हो गया. इसके बाद उन्होंने अपने पिता का कृषि कार्य शुरू किया. उनके पास करीब तीन बीघे का आम का बाग है. साल में एक समय आम के बागान से आमदनी होती है. इसलिए उन्होंने आम के बाग के अंदर वैकल्पिक फसलों की खेती करने के बारे में सोचना शुरू किया.वहीं से पपीते की खेती का आइडिया आया.

एग्रीकल्चर
Image-count-SVG3 / 6
(Image: )

आम के बगीचे में खाली जगह पर पपीते के पेड़ लगाए गए हैं. नियमित रख-रखाव और उचित खेती के कारण पिछले कुछ वर्षों में उन्हें पपीते की खेती में काफी सफलता मिल रही है. तीन बीघा आम के बागों में निश्चित दूरी पर पपीते के पेड़ हैं. वहीं से उसकी आमदनी होती है. आमतौर पर बाजार में दो तरह की मिर्ची की डिमांड होती है, पकी और कच्ची.लेकिन वह ज्यादातर कच्चा पपीता बेचते हैं. इस साल पकने के लिए बेचना. अभी एक किलो पका पपीता 30 रुपए और कच्चा पपीता 20 रुपए में बिक रहा है. इससे 40-50 हजार रुपये तक हर महीने कमाई हो रही है.

एग्रीकल्चर
Image-count-SVG4 / 6
(Image: )

पपीते की खेती साल भर की जा सकती है. लेकिन पपीते की पौध लगाने के लिए मार्च सबसे अच्छा समय है. पपीते की छोटी और अधिक उपज देने वाली किस्मों को अपने बगीचे में लगाया जाता है. पपीते का यह पौधा वह बाहर से लाया था. नियमित रूप से पानी देने और देखभाल करने से पपीता का पौधा इंसान बन जाएगा. हालांकि, पपीता वायरस के हमले के लिए सबसे अधिक अतिसंवेदनशील होता है.

एग्रीकल्चर
Image-count-SVG5 / 6
(Image: )

पपीते के पेड़ और पपीते को इस वायरस से बचाने के लिए रखरखाव कीटनाशकों के समय पर उपयोग की आवश्यकता होती है. एक बार पपीते के पौधे को वायरस से बचाया जा सकता है, तो भारी मुनाफा होने की संभावना है. बाल ओडे ने कहा, मैंने पड़ोस के कई किसानों को आम के बाग में पपीता उगाने की कोशिश करते देखा है. लेकिन वे सफल नहीं हुए.

एग्रीकल्चर
Image-count-SVG6 / 6
(Image: )

क्योंकि पपीते के पौधे को वायरस से बचाना बहुत जरूरी है. उस समय पेड़ की उचित देखभाल करनी चाहिए. एक बार जब आप इसे वायरस से बचा सकते हैं, तो आपको इस फसल से अच्छी आय प्राप्त होती है.मुख्य रूप से आम की खेती. लेकिन शिशु बाबू ने बिना जमीन को खाली छोड़े पपीते की खेती शुरू कर दी. अब वह पपीते की खेती कर मोटी वार्षिक आय अर्जित कर रहे हैं. जो जिले के अन्य किसानों को प्रेरित कर रहे है.

बिजनेस की लेटेस्ट खबर, पर्सनल फाइनेंस, शेयर बाजार (स्टॉक मार्केट) की ब्रेकिंग न्यूज और स्टॉक टिप्स, इन्वेस्टमेंट स्कीम और आपके फायदे की खबर सिर्फ CNBCTV18 हिंदी पर मिलेगी. साथ ही अपने फेवरेट चैनल सीएनबीसी आवाज़ को यहां फोलो करें और लाइक करें हमें फेसबुक और ट्विटर पर.
arrow down
CurrencyCommodities
CompanyPriceChng%Chng